राजनांदगाव जिले में मृत्यु दर को कम करने के हरसंभव प्रयास टीम ने हॉस्पिटल में ऑक्सीमीटर एवं अन्य सुविधाओं की ली जानकारी

 राजनांदगाव जिले में मृत्यु दर को कम करने के हरसंभव प्रयास टीम ने हॉस्पिटल में ऑक्सीमीटर एवं अन्य सुविधाओं की ली जानकारी

स्वास्थ्य मंत्रालय भारत शासन नई दिल्ली से आई टीम को प्रजेन्टेशन के माध्यम से कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए किए गए कार्यों की दी गई जानकारी
मृत्यु दर को कम करने के हरसंभव प्रयास
टीम ने हॉस्पिटल में ऑक्सीमीटर एवं अन्य सुविधाओं की ली जानकारी


राजनांदगांव 09 सितम्बर 2020। स्वास्थ्य मंत्रालय भारत शासन से आए टीम के डिप्टी डायरेक्टर एनसीडीपी नई दिल्ली के डॉ. अनुभव श्रीवास्तव, आईसीएमआर नई दिल्ली के डॉ. अभिनव, सफदरजंग हॉस्पिटल नई दिल्ली की प्रोफेसर डॉ. गीता यादव एवं स्वास्थ्य संचालनालय रायपुर के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. नेतराम बेक को प्रजेन्टेशन के माध्यम से जिले में कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी गई। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी एवं डीपीएम श्री गिरीश कुर्रे ने नई दिल्ली से आई टीम से कोविड-19 के संबंध में विभिन्न मुद्दो पर चर्चा की।


डीपीएम श्री गिरीश कुर्रे ने जानकारी देते हुए बताया कि राजनांदगांव जिला महाराष्ट्र एवं मध्यप्रदेश की सीमाओं से लगा हुआ है। सभी प्रकार के व्यापार एवं आवागमन निरंतर होने की वजह से कोविड-19 की मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई। उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में श्रमिकों के आने से उनके क्वारेंटाईन एवं नि:शुल्क भोजन की व्यवस्था की गई। 25 मार्च को जिले में पहला कोरोना पॉजिटिव केस आया था। उन्होंने बताया कि शहर के लखोली में एक साथ बड़ी संख्या में कोविड-19 के मरीज मिलने पर चुनौतीपूर्ण स्थिति में जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा महत्वपूर्ण कदम उठाए गए। उन्होंने बताया कि इस दौरान सीएमएचओ ऑफिस को डिस्ट्रिक वार रूम बनाया गया और वहां कोविड-19 की कठिन समस्या के समाधान के लिए रणनीति तैयार की गई। उन्होंने जानकारी दी कि अब शासन के एप्प में भी कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए बेड की उपलब्धता की जानकारी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि मृत्यु दर को कम करने की दिशा में हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। लॉकडाउन के दौरान महतारी सदन क्वारेंटाईन सेन्टर की जानकारी दी। गांवों में सियान चौकसी अभियान भी चलाया गया। जिले में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 3732 है। इनमें 1881 एक्टिव केस है तथा 1808 मरीज इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके हैं। नई दिल्ली से आई टीम ने कोविड-19 के सैम्पल टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के लिए कहा। हाइ रिस्क के मरीजों को होम आईसोलेशन में नहीं रखना है। उन्होंने हॉस्पिटल में ऑक्सीमीटर एवं अन्य सुविधाओं की जानकारी ली।

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post