राजनांदगांव : कृषि विभाग द्वारा फसलों को तना छेदक एवं माहू बीमारी से बचाने के लिए किसानों को दी गई समसामयिक सलाह

 राजनांदगांव : कृषि विभाग द्वारा फसलों को तना छेदक एवं माहू बीमारी से बचाने के लिए किसानों को दी गई समसामयिक सलाह

कृषि विभाग द्वारा फसलों को तना छेदक एवं माहू बीमारी से बचाने के लिए किसानों को दी गई समसामयिक सलाह
फसल में ब्लास्ट रोग एवं अन्य बीमारी होने पर दवा के छिड़काव दी जानकारी


राजनांदगांव 10 सितम्बर 2020। उप संचालक कृषि श्री जीएस ध्रुर्वे ने बताया कि जिले में खरीफ वर्ष 2020 में 3 लाख 73 हजार हेक्टेयर में खरीफ की विभिन्न फसलें किसानों द्वारा ली गई है। जिसमें मुख्य रूप से धान फसल 3 लाख 25 हजार हेक्टेयर में तथा सोयाबीन फसल 24 हजार हेक्टेयर में किसानों द्वारा बोई गई है। विगत दिनों से खराब मौसम एवं बारिश के कारण फसलों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है जिसके कारण फसलों में विभिन्न प्रकार के कीट, पतंगों एवं रोगों का प्रकोप पडऩे की समस्या आ रही है। जिसका प्रबंधन समय में किया जाना अति आवश्यक है। धान फसल में मुख्य रूप से तना छेदक एवं माहू की समस्या आ रही है। धान के तनाछेदक कीट के नियंत्रण के लिए क्लोरोसाईपर की 300 मि.ली. प्रति एकड़ की दर से या फोरेट 10 प्रतिशत दानेदार की 4-5 किलो ग्राम प्रति एकड़ की दर से प्रभावित क्षेत्र में किसान छिड़काव कर सकते हैं। इसी प्रकार भूरा माहू से प्रभावित क्षेत्र में इमीडा क्लोप्रीड 17.8 प्रतिशत लिक्विड की 40-50 मि.ग्रा. मात्रा को 250 ली. पानी में घोल बनाकर प्रति एकड़ की दर से छिड़काव किया जा सकता है।
उप संचालक कृषि श्री ध्रुर्वे ने बताया धान फसल में कीट व्याधि के साथ-साथ बीमारी का भी प्रकोप हो रहा है। जिनमें से धान में ब्लास्ट रोग प्रमुख रोग है, जिसमें बाली निकलने के दौरान लक्षण दिखाई देने पर ट्राईसाईक्लाजोन 75 प्रतिशत की 120 ग्राम के दर से प्रति एकड़ में या कार्बेंडाजिन 50 प्रतिशत की 15-20 ग्रा. मात्रा को 15 ली. पानी में घोलकर निरंतर अंतराल में छिड़काव करें। लीफ ब्लाईट के लक्षण दिखाई देने पर प्रोपेकोनाजोल की 20 मि.ग्रा. की मात्रा को 15-20 ली. पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें, जिन क्षेत्रों में जिंक की कमी के कारण धान पत्तियों पर हल्के पीले रंग के धब्बे बन रहे हैं, वहां पर जिंक सल्फेट 25 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव कर करें।
सोयाबीन फसल में गेरूवा रोग के कारण पत्तियों की निचली सतह पर हल्के पीले, भूरे या लाल रंग के धब्बे बनते है जिसके रोकथाम के लिए फफूंद नाशक प्रोपिकोनाजोल का 0.1 प्रतिशत का घोल बनाकर 8-10 दिन के अंतराल में छिड़काव कर सकते हैं।

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post