मुंगेली जिले की बड़ी खबर ..आखिर अस्पताल में क्या हुआ.. मरीज के साथ जिससे आत्महत्या करने पर मजबूर हुआ मरीज… युवक कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव था..

 मुंगेली जिले की बड़ी खबर ..आखिर अस्पताल में क्या हुआ.. मरीज के साथ जिससे आत्महत्या करने पर मजबूर हुआ मरीज… युवक कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव था..

हरजीत भास्कर- लोरमी// मुंगेली जिले के मातृ एवं शिशु अस्पताल लोरमी में एक युवक के द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है. जहां अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही उजागर होने की बात कही जा रही हैं। मिली जानकारी के अनुसार पूरा मामला बीते रात का है जहां पर बलौदाबाजार निवासी 47 वर्षीय अनिल जायसवाल लोरमी में किराए के मकान में रहते हुए धान भूसा सप्लाई करने का काम करता था। जो बीते दिनों 50 बिस्तर वाले अस्पताल में तबियत खराब होने के वजह से भर्ती किया गया था। जिनका उपचार पिछले तीन दिनों से चल रहा था। जो कल अचानक रात में फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया। इस पूरे मामले में बड़ा सवाल यह है कि लोरमी के सरकारी अस्पताल में 24 घंटे इमरजेंसी सेवाएं दी जाती हैं और 24 घंटे स्वास्थ्य कर्मचारी तैनात भी रहते हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक बीते 7 सितंबर को डायबिटीज शुगर और फीवर की शिकायत पर 50 बिस्तर अस्पताल में भर्ती कराया गया था जो आइसोलेशन वार्ड में अपने ही गमछे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर लिया। इस पूरे मामले में लोरमी के बीएमओ डॉ जीएस दाऊ ने कहा कि युवक डायबिटीज और शुगर की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती किया गया था। जिनका आज कोरोना जांच होना था। और रात में युवक ने आत्महत्या कर लिया, वहीं पुलिस टीम की मौजूदगी में पंचनामा के बाद कोरोना टेस्ट किया गया जिसका रिपोर्ट पॉजिटिव आया है। इस पूरे मामले की सूचना मिलते ही डीएसपी नवनीत कौर व थाना प्रभारी केसर पराग समेत पुलिस टीम घटना स्थल पहुँचकर मुआयना किया. इस दौरान लोरमी के थाना प्रभारी केसर पराग ने जांच के बाद आगे की कार्यवाही करने की बात कही है।

मिली जानकारी के अनुसार मृतक के मां की भी मौत बलौदाबाजार में आज सुबह हो गई है। जिनकी अंतिम संस्कार गृहग्राम में करने के बाद परिजन शव को लेने लोरमी आएंगे।

वही युवक की फांसी में लटकती लाश को देखकर सभी कर्मचारी हैरान में पढ गये है कि जिस युवक का अस्पताल में उपचार चल रहा था। उसने आखिर आत्महत्या क्यों किया। जिस स्थिति में मृतक की लाश फंदे से लटकती हुई मिली है वो संदिग्ध अवस्था में दिखाई पड़ रहा था।
इस पूरे मामला को देखा जाए तो कहीं ना कहीं अस्पताल प्रबंधक की लापरवाही नजर आ रही है। अब मामले की जांच के बाद पता चल पाएगा कि आखिर पूरा मामला क्या था।

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post