मुंगेली: खरीफ वर्ष 2020-21 के संबंध में दो दिवसीय कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा सम्पन्न

 मुंगेली: खरीफ वर्ष 2020-21 के संबंध में दो दिवसीय कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा सम्पन्न

खरीफ वर्ष 2020-21 के संबंध में दो दिवसीय कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा सम्पन्न

मुंगेली 22 अक्टूबर 2020//  परियोजना संचालक आत्मा सह उप संचालक कृषि एवं कृषि विज्ञान केंद्र,मुंगेली के समन्वय में  2020-21 के संबंध में विगत दिवस दो दिवसीय  कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा कृषि विज्ञानं केंद्र चातरखार  में सम्पन्न हुई। जिसमे वैज्ञानिक सुश्री प्रमिला जोगी ने सब्जियों तथा फलों के कीट एवं रोग नियंत्रण के बारे में जानकारी दी और कृषको को  बीज तथा थरहा को उपचार करने के उपरान्त ही क्यारी बनाकर माँदा में लगाने की समझाईश दी। कृषि वैज्ञानिक श्रीमती नेहा लहरे ने केचुआ खाद उत्पादन, राइजोबियम कल्चर, पी. एस. बी कल्चर, ट्राइकोडर्मा का महत्व, उसकी उपयोगिता, उसके रख रखाव के तरीके के संबंध में जानकारी दी। उन्होने मशरूम उत्पादन एवं उससे बनने वाले विविध प्रकार के व्यंजन जैसे मशरूम अचार, बड़ी, पापड़, पकोड़ा, सूप, सब्जी आदि के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। कृषि वैज्ञानिक डॉ. प्रेम शंकर तिवारी ने धान, दलहन तथा तिलहन फसल में लगने वाले कीटों एवं उसके नियंत्रण तथा जैविक खेती करने, बीज भंडारण आदि विषय में जानकारी दी। दो दिवसीय कृषक वैज्ञानिक परिचर्चा में मुख्य रूप से कृषि विज्ञानं केंद्र की उद्यानिकी वैज्ञानिक, आत्मा योजना से बी.टी.एम श्री चेतन कुर्रे, सुश्री वर्षा नाग, ए.टी.एम सुश्री निकिता तिवारी एवं अलग अलग विकासखण्ड से लगभग 30 कृषक उपस्थित थे।

 

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post