बिलासपुर: एसआई के खिलाफ पत्रकारों ने की पुलिस महानिरीक्षक से शिकायत

 बिलासपुर: एसआई के खिलाफ पत्रकारों ने की पुलिस महानिरीक्षक से शिकायत

बिलासपुर/संविधान में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि पुलिस की स्थापना आम जनता के जान माल की सुरक्षा के लिए किया गया है लेकिन कोई पुलिस वाला खाकी वर्दी पहनने के बाद आम आदमी को परेशान करे,पत्रकारों और उनके परिवार को सिर्फ इसलिए प्रताड़ित करे क्योंकि उनके परिवार के पत्रकारों नें उनके द्वारा किए गए गलत कार्यों को प्रमुखता से प्रकाशित कर शासन और प्रशासन को आईना दिखलाने का काम किया कि कानून का रखवाला कानून की आड़ में कानून तोड़ रहा है। पुलिस महानिरीक्षक बिलासपुर को पत्रकारों नें ज्ञापन देकर एक पुलिस वाले कि शिकायत करते हुए लिखा है कि आपके महकमे को बदनाम करने वाले पत्रकारों और उनके परिवार को झूठे मामलों में षड्यंत्र पूर्वक फसाने की धमकी देने वाले, पत्रकारों से रंजिश रखने वाले एस आई के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए जिले से अविलंब हटाया जाए। मामला क्या है… उपनिरीक्षक अशोक शर्मा जो वर्तमान में थाना कटघोरा में पदस्थ हैं ये जहां भी पदस्थ रहे इनकी गंभीर शिकायतें हुई। कहते हैं इनके विरुद्ध अनेंक शिकायत जांच आज भी लंबित है। एस.आई अशोक शर्मा जो पाली थाना में पदस्थ रहे एवं वर्तमान में थाना कटघोरा में पदस्थ है। पाली में पदस्थ रहते हुए इनके द्वारा कई बार पत्रकारों की खबरों पर खास तौर से पत्रकार कमल महंत के द्वारा इनके गलत कार्यों को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है, जिसकी वजह से वे तिलमिला गए। पत्रकारों का आरोप है कि इन्होंने वर्दी वाले गुंडा की तर्ज पर पत्रकार कमल महंत, दीपक शर्मा, कमल वैष्णव के घर में घुसकर मारूंगा, सारी पत्रकारिता को घुसेड़ दूंगा, जब जेल की हवा खाओंगे तब पत्रकारिता समझ आएगी।

इसके अलावा किसी भी झूठे मामले में फसाने की धमकी भी दी है। एस आई की करतूत… पत्रकार कमल महंत के भाई दीपक महंत का विगत माह में सामान्य मोटर सायकल दुर्घटना कटघोरा थाना अंतर्गत हुआ था, जिसमें कोई जनधन की हानि नहीं हुई, इस बीच सूचना पर 112 मौके पर पहुंचा। जहां 112 कर्मियों से घायल दीपक महंत के बीच बहस हुई। जिस मामले की 112 कर्मियों की शिकायत पर थाना कटघोरा ने मोटर व्हीकल एक्ट ना लगाकर दीपक महंत के खिलाफ अवैधानिक रूप से गंभीर अपराधिक गैर जमानती धाराएं लगाई थी। विगत दिनों जब अशोक शर्मा का स्थानांतरण पाली थाना से कटघोरा थाने में हुआ तो पत्रकार कमल महंत के भाई दीपक महंत के खिलाफ प्रकरण की जानकारी उन्हें होते ही उन्होंने विद्वेश पूर्ण कार्यवाही करते हुए बिना पाली थाना को सूचना दिए बिना कटघोरा थाना ले गए। दूसरी महत्वपूर्ण लापरवाही कि उन्होंने उच्च न्यायालय के निर्देशों का पूरी तरह उल्लघन करते हुए गिरफ्तारी की सूचना जो घरवालों को दी जानी चाहिए अभी तक नहीं दी गई है। एस.आई. अशोक शर्मा के कृत्य की शिकायत पीड़ित महिला द्वारा पाली थाना में जाकर की गई। जिसमें महिला का मुलाहिजा नहीं कराया गया। पत्रकार कमल महंत के भाई को कटघोरा थाना ले जाकर अशोक शर्मा द्वारा दबावपूर्वक उससे कई तरह के विडियों बनाया गया और दबाव बनाया गया कि पाली थाना में महिला द्वारा किये गए लिखित शिकायत को वापस लिए जाए नहीं तो तेरे परिवार के अन्य लोगों को भी फसाउंगा। एस आई अशोक शर्मा के विरूद्ध अनेक शिकायते हैं जिनकी जांच लम्बित है। उनके विरूद्ध हुए शिकायतों को प्रकाशित करने से वे पत्रकार कमल महंत सहित पाली के सभी पत्रकारों से रंजिश रखते है तथा कभी भी वे पत्रकारों को किसी भी प्रकार के झुठे मामले में अपराध पंजीबद्ध कर फंसाने की मंशा को लेकर कार्य कर रहे हैं। पत्रकारों की मांग है कि छत्तीसढ़ पुलिस की प्रतिष्ठपुर्ण छवि को धूमिल करने वाले कटघोरा थाने के एस.आई. अशोक शर्मा के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उन्हें कोरबा जिला से अविलंब हटाया जाए, तथा महिला की शिकायत पर अपराध दर्ज कराई जाए।

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post