पढ़ई तुंहर दुआर ऑनलाइन कक्षा महाअभियान, संभाली शिक्षकों ने कमान ऑनलाइन सर्वाधिक कक्षा व बच्चों को जोडऩे का रखा था लक्ष्य

 पढ़ई तुंहर दुआर ऑनलाइन कक्षा महाअभियान, संभाली शिक्षकों ने कमान ऑनलाइन सर्वाधिक कक्षा व बच्चों को जोडऩे का रखा था लक्ष्य

पढ़ई तुंहर दुआर ऑनलाइन कक्षा महाअभियान, संभाली शिक्षकों ने कमान
ऑनलाइन सर्वाधिक कक्षा व बच्चों को जोडऩे का रखा था लक्ष्य

रायगढ़, 7 सितम्बर2020/ बदलाव की चुनौतियों के बीच कलेक्टर श्री भीम सिंह के निर्देशन में संचालित हो रही पढ़ई तुंहर दुआर ऑनलाइन कक्षा के महाअभियान अंतर्गत जिले के सरकारी स्कूलों के शिक्षकों द्वारा अपनी क्षमताओं के अधिकतम प्रयास को परखने हेतु ऑनलाइन कक्षा महाअभियान चलाया। लक्ष्य था सर्वाधिक ऑनलाइन कक्षाएं व सर्वाधिक बच्चों को जोडऩे का। समूचे राज्य में ऑनलाइन कक्षाओं को संचालित करने व सर्वाधिक बच्चों को जोडऩे के मामले में रायगढ़ जिला अव्वल रहा है, इस बात की वास्तविकता एवं क्रियान्वयन का अवलोकन करने प्रमुख सचिव, शिक्षा, डॉ. आलोक शुक्ला ने जिले का आधिकारिक दौरा किया। अपने दौरे में कलेक्टर श्री भीम सिंह, सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, जिला शिक्षा अधिकारी श्री आर.पी.आदित्य ने रायगढ़ जिले के सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को प्रेरित करते हुए जब उन्होंने यह बात कही थी कि हममें अपनी क्षमताओं को परखने, अपने प्रयासों से अधिकतम ऑनलाइन कक्षाओं व अधिकतम बच्चों को जोडऩे का प्रयास करना होगा। इसी प्रेरणा व प्रयोजन से जिले के तमाम शिक्षकों ने इस महाअभियान की कमान सम्भालते हुए अपना लक्ष्य हासिल किया।


क्या लक्ष्य हासिल किया
ऑनलाइन कक्षा महाअभियान अंतर्गत जिले के विभिन्न विकास खंडों के शिक्षकों ने एक दिन में कुल  21425 ऑनलाइन कक्षाओ को संचालित करते हुए 212625 से भी अधिक बच्चों की उपस्थिति सुनिश्चित करते हुए अपनी क्षमताओं व प्रयासों को परखते हुए इस महाअभियान के महती लक्ष्य को हासिल किया।
डॉ आलोक शुक्ला की प्रशंसा बनी शिक्षकों की प्रेरणा
डॉ.आलोक शुक्ला की प्रेरणा, कलेक्टर श्री भीम सिंह के कुशल निर्देशन, सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी के मार्गदर्शन में जिला शिक्षा अधिकारी श्री आर.पी.आदित्य एवं मिशन संचालक श्री रमेश देवांगन जिले के शिक्षकों को लगातार प्रेरित करते हुए कहा कि हमारे प्रयासों के लिए प्रमुख सचिव ने शुभकामनाएं दी हैं व साथ ही एक महती जिम्मेदारी भी दी है कि सभी शिक्षक अपनी अधिकतम क्षमताओं का उपयोग करते हुए अधिकतम ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से अधिकतम बच्चों को जोड़ते हुए उन तक शिक्षा का लाभ पहुंचाने का प्रयास करें और इन सभी की प्रेरणा से ही जिले के सभी शिक्षक इस महा अभियान के अपने लक्ष्य को हासिल करते हुए समाचार लिखे जाने तक कुल 21425 ऑनलाइन कक्षाओं को संचालित करते हुए कुल 2 लाख 12 हजार 625 बच्चों की उपस्थिति दर्ज कराते हुए अपनी क्षमताओं के प्रदर्शन में एक इतिहास गढऩे में कामयाब रहे।


क्या थी योजना, कैसे हुआ प्रयास
अधिकतम क्षमताओं व प्रयासों के इस महा अभियान की योजना में जिला स्तर पर सभी विकासखण्डों के बीईओ, प्राचार्यों, प्रधान पाठकों, संकुल समन्वयकों, शिक्षकों को एक दिन में दो-दो ऑनलाइन कक्षाओं को जेनेरेट करने, मॉनिटरिंग करने, अधिकतम बच्चों को जोड़ते हुए बच्चों को अध्यापन कराने हेतु जिले से संकुल स्तर तक प्रेरित किया गया। ऑनलाइन व ऑफलाइन कक्षाओं सहित अन्य शैक्षिक मॉडल में अग्रणी रहे शिक्षकों को मोटीवेट करते हुए पालकों, बच्चों को हर स्तर पर प्रेरित किया गया।
सकारात्मक परिणाम के बाद क्या लिया संकल्प
ऐसे समय जब कोविड 19 संक्रमण की चुनौतियाँ हावी हो रही थीं, स्कूल बंद थे, ऐसी कठिन परिस्थितियों में भी रायगढ़ जिले के शिक्षकों के प्रयासों का ही परिणाम रहा कि जिले में एक दिन में ही शाम 5 बजे तक 21425 ऑनलाइन क्लासेस में 2 लाख 12 हजार 625 बच्चों की उपस्थिति रही। अपने योजनाबद्ध प्रयासों व प्रयोजन के सकारात्मक परिणाम के फलस्वरूप जिले के सभी अधिकारियों व शिक्षकों का मनोबल बढ़ा और सभी ने संकल्प भी लिया कि प्राप्त परिणामों के आधार पर अपनी अधिकतम क्षमताओं व प्रयासों से  शिक्षा व इसकी उपलब्धता व प्रगति को और भी आगे ले जाने का प्रयास जारी रहेगा।

आंगनबाड़ी सहायिका नियुक्ति हेतु 16 सितम्बर तक दावा-आपत्ति आमंत्रित  
रायगढ़, 7 सितम्बर2020/ एकीकृत बाल विकास परियोजना रायगढ़ (ग्रामीण)अंतर्गत आंगनबाड़ी केन्द्र पाली, कुसमुरा, बरपाली, सपनई व सोनुमुड़ा में सहायिका पद के लिए गत दिवस आवेदन आमंत्रित किये गये थे। आवेदिकाओं से प्राप्त आवेदनों का मूल्यांकन समिति के द्वारा मूल्यांकन कर अनंतिम मूल्यांकन पत्रक परियोजना कार्यालय के सूचना पटल पर चस्पा किया गया है। उक्त सूची के संबंध में किसी को कोई आपत्ति हो तो वे अपना दावा-आपत्ति परियोजना अधिकारी एकीकृत बाल विकास परियोजना रायगढ़ ग्रामीण कार्यालय में 16 सितम्बर 2020 शाम 5 बजे तक लिखित में प्रस्तुत कर सकते है।


01 अक्टूबर से आंगनबाड़ी केन्द्रों का होगा संचालन
रायगढ़, 7 सितम्बर2020/ रायगढ़ जिला अंतर्गत आंगनबाड़ी एवं मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों का संचालन कोविड-19 के सुरक्षा सभी सभी प्रोटोकाल का पालन करते हुये 01 अक्टूबर 2020 से किया जायेगा। जिले के अंतर्गत आंगनबाड़ी एवं मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों में माह सितम्बर 2020 का पूरक पोषण आहार अंतर्गत टेक होम राशन का वितरण एवं मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत सूखा राशन का वितरण संबंधित पात्र हितग्राहियों को वितरित किया जा चुका है। पोषण अभियान अंतर्गत पोषण माह 01 सितम्बर 2020 से 30 सितम्बर तक आयोजित होने वाले कार्यक्रम जारी कलैण्डर कार्ययोजना अनुसार यथावत जारी रहेंगे।
उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ शासन महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पत्र जारी कर निर्देशित किया है कि कोविड-19 के कारण दिनांक 14 मार्च 2020 से आंगनबाड़ी केन्द्रों का संचालन बंद रखते हुये आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा हितग्राहियों के घर पहुंचाकर सूखा राशन प्रदाय किया जा रहा है। बच्चों के पोषण स्तर को बनाये रखने एवं स्वास्थ्य सुविधा के लिये वर्तमान व्यवस्था प्रभावी नहीं है अर्थात वर्तमान व्यवस्था में कुपोषण के स्तर में कमी लाने में कठिनाई होगी। अंतराष्ट्रीय एजेंसियों जैसे डब्ल्यूएचओ, यूनिसेफ जैसी संस्थाओं का मानना है कि कोविड-19 के कारण कुपोषण में बढ़ोत्तरी हो सकती है। अत: कुपोषण की रोकथाम के लिए कारगर कदम उठाये जाने की आवश्यकता है। अत: स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस तथा गरम भोजन प्रदाय करने हेतु आंगनबाड़ी केन्द्र से कोविड-19 के सुरक्षा संबंधी प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करते हुये केन्द्र का संचालन किये जाने के निर्देश दिये गये है।
rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post