कलेक्टर श्री भीम सिंह ने की बाढ़ प्रभावित लोगों के पुनर्वास हेतु राहत सामग्री सहयोग की अपील

कलेक्टर श्री भीम सिंह ने की बाढ़ प्रभावित लोगों के पुनर्वास हेतु
राहत सामग्री सहयोग की अपील
शहर के सामाजिक संगठनों, समाज सेवी संस्थाओं के साथ कलेक्टर की बैठक
राहत सामग्री संग्रहण एवं वितरण के लिये संयुक्त कलेक्टर प्रभारी नियुक्त
रायगढ़, 11 सितम्बर2020/ कलेक्टर श्री भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट परिसर के सृजन सभाकक्ष में रायगढ़ जिले के समाज सेवी संस्थाओं, उद्योग समूहों, चेम्बर आफ कामर्स, व्यापारिक संगठनों, स्व-सहायता समूहों के पदाधिकारियों से जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में प्रभावित ग्रामीणों के पुनर्वास तथा कोरोना संक्रमित मरीजों के भोजन व्यवस्था के लिये सहयोग की अपील की, उन्होंने कहा कि जिले में महानदी के तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ के कारण बहुत नुकसान हुआ है। जिसमें मकानों का पूरी तरह गिरना तथा आंशिक क्षति और फसलों के नुकसान का सर्वे प्रशासन द्वारा कराया जा रहा है। जिससे शासन द्वारा निर्धारित क्षतिपूर्ति राशि प्रदान की जायेगी। परंतु बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र के लोगों के पुनर्वास हेतु आप लोगों के सहयोग की आवश्यकता है। जिले के सामाजिक संगठन, समाज सेवी संस्थाओं, उद्योग समूह, चेम्बर ऑफ कामर्स, व्यापारिक संगठन सहित कोई भी व्यक्ति स्वेच्छा से सहयोग प्रदान कर सकता है। ग्रामीणों के पुनर्वास के लिये टीन या एसबेस्टर शेड, कपड़ा (लड़के तथा लड़कियों के लिये), कंबल, चादर, साड़ी, बाल्टी, साबुन, शाल, स्वेटर, दाल, चावल, अनाज सहित खाने-पीने तथा घरेलू उपयोग के सामान प्रदान करने के लिये प्रशासन की ओर से रायगढ़ शहर के ऑडिटोरियम में संग्रहण केन्द्र बनाया गया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पुनर्वास एवं राहत सामग्री संग्रहण व वितरण के लिये संयुक्त कलेक्टर एवं परिवहन अधिकारी श्री सुमित अग्रवाल को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इनसे मोबाईल नंबर 9907986830 पर संपर्क कर राहत सामग्री प्रदान किया जा सकता है। संस्थाओं द्वारा पशुओं के लिये आहार या चारा उपलब्ध कराया जा सकता है। सहयोग प्रदान करने वाली संस्थाओं के प्रतिनिधि राहत सामग्री वितरण की मॉनिटरिंग भी कर सकते है।
कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों के लिये जिले में 1300 बिस्तर की व्यवस्था अलग-अलग कोविड अस्पतालों में की गई है, जिन्हें बढ़ाकर 1500 की क्षमता तक किया जा सकेगा। गंभीर स्थिति वाले मरीजों के लिये निजी अस्पतालों द्वारा 40 आईसीयू बेड उपलब्ध कराया जा रहा है। आगे भी निजी अस्पतालों द्वारा सहयोग का आश्वासन दिया गया है। कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिये नाश्ता और भोजन व्यवस्था तथा सफाई निगरानी के लिये डिप्टी कलेक्टर को नियुक्त किया गया है और कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों को फूड इंस्पेक्टर द्वारा खाना की जांच कर वितरित किया जा रहा है। इन मरीजों के लिये नाश्ता और भोजन पर होने वाले व्यय के लिये सामाजिक संस्थायें तथा व्यापारिक संस्थायें नगद राशि या चेक के माध्यम से सहयोग प्रदान कर सकते है, जिसे बैंक में खाता खोलकर संधारित किया जायेगा। कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि राज्य शासन का प्रयास है कि कोरोना संक्रमित मरीजों की जान बचायी जा सके, इसके लिये सभी प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि कोरोना बीमारी से ठीक होकर जाने वाले मरीजों से प्लाज्मा डोनेट करने का सहमति प्राप्त किया जाये और उनका संपर्क नंबर एवं पता सुनिश्चित किया जाये, ताकि कोरोना से गंभीर रूप से संक्रमित मरीज के इलाज हेतु प्लाज्मा उपलब्ध कराया जा सके। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि कोरोना बीमारी के संबध में किसी प्रकार की भ्रामक जानकारी पर ध्यान न दें और किसी भी संदेह के निराकरण के लिये प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से संपर्क करें।
कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि रायगढ़ शहर के सभी पशुओं को शहर से बाहर गोठान में व्यवस्थापन किया जायेगा। यहां रखे जाने वाले पशुओं के आहार एवं चारा व्यवस्था के लिये उन्होंने सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों से सहयोग की अपील की। इससे पशुओं को गोठान में रखने से गोबर प्राप्त होगा और इससे गोठान समिति को आय प्राप्त होगी। बैठक में रायगढ़ शहर की पूर्व परंपरा के अनुसार सभी संस्थाओं के पदाधिकारियों ने पुनर्वास कार्यों में सहयोग के लिये सहमति प्रदान किया। बैठक में एडीएम श्री राजेन्द्र कटारा, निगम आयुक्त श्री आशुतोष पाण्डेय सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

RJ रमझाझर

RJ रमझाझर

Editor In Chief

Related post