कलेक्टर ने 12 सितम्बर से 18 सितम्बर तक नगर पालिक क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया 

 कलेक्टर ने 12 सितम्बर से 18 सितम्बर तक नगर पालिक क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया 

कलेक्टर ने 12 सितम्बर से 18 सितम्बर तक नगर पालिक क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया
कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए सतर्कता ही
सबसे जरूरी है – कलेक्टर
दूध, फल, सब्जी, किराना, अनाज दुकान, डेली नीड्स, आटा चक्की की दुकाने सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक खुली रहेगी
राजनांदगांव 11 सितम्बर 2020। कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने आज पुलिस प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, चेम्बर ऑफ कामर्स एवं व्यापारी संघ के प्रतिनिधियों से कंटेनमेंट जोन में आवश्यक वस्तुओं की दुकानों के खोलने के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए सतर्कता ही सबसे जरूरी है। उम्मीद है कि यह चेन टूटेगी। कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ रही है और मृत्यु दर भी बढ़ी है। अभी भी 200 से 250 केस मिल रहे हैं जिसमें से 50 प्रतिशत नगरीय क्षेत्रों से है। कलेक्टर ने कहा कि होम आइसोलेशन में भी कोरोना पॉजिटिव असिम्टमेटिक मरीजों को अनुशासित रहना होगा। कोरोना के लक्षण मिलने पर तत्काल हॉस्पिटल में शिफ्ट किया जाएगा और डॉक्टर की निगरानी में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि 12 सितम्बर से 18 सितम्बर तक संपूर्ण नगर पालिक निगम क्षेत्र राजनांदगांव को कन्टेनमेंट जोन घोषित किया जाएगा। इस दौरान दूध, फल, सब्जी, किराना, अनाज दुकान, डेली नीड्स, आटा चक्की की दुकाने सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक खुली रहेगी। शाम 6 बजे से रात्रि 8 बजे तक दूध डेयरी वालों द्वारा केवल होम डिलिवरी किया जा सकेगा, किन्तु दुकान में विक्रय नहीं जाएगा। खाद्य प्रसंस्करण से संबंधित उद्योग राईस मिल, पोहा मिल, दाल मिल आदि यथावत संचालित रहेंगे। समस्त कृषि केन्द्र सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक खोले जा सकेगे।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि हर वार्ड में कोरोना पॉजिटिव केस लगातार मिल रहे हैं।  कन्टेनमेंट जोन की अवधि में स्वास्थ्य विभाग द्वारा सैम्पल ज्यादा से ज्यादा लिया गया। इस दौरान पुराने संक्रमित लोग एक ही स्थान पर रहे और उनका कोरोना टेस्ट किया गया और उन्हें आवश्कतानुसार होम आइसोलेशन, कोविड केयर एवं मेडिकल हॉस्पिटल भेजा गया। उन्होंने कहा कि सभी सतर्क रहते हुए कोविड-19 का प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने अपने आदत एवं व्यवहार में परिवर्तन कर सुरक्षित रह सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगस्त एवं सितम्बर में नमी होने की वजह से सर्दी, खांसी एवं बुखार की शिकायत बढ़ती है। ऐसे में सतर्क रहते हुए स्वयं को आइसोलेट करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पार्षद होम आइसोलेशन की निगरानी कर सकते हैं। कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए बहुत सजग होकर कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि एंटीजन एवं ट्रूनॉट टेस्ट में डूप्लिकेसी को रोकने के लिए उंगली पर निशान लगाया जा रहा है। डायबेटिज, ब्लडप्रेसर, अस्थमा एवं हार्ट की बीमारी से ग्रसित लोगों को विशेष रूप से सावधानी रखने की जरूरत है। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय, सीईओ जिला पंचायत श्रीमती तनुजा सलाम, नगर निगम आयुक्त श्री चंद्रकांत कौशिक, एडिशनल एसपी सुरेशा चौबे, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे, सीएसपी श्री मणिशंकर चंद्रा, चेम्बर ऑफ कामर्स, व्यापारिक संघ  के पदाधिकारी उपस्थित थे।

RJ रमझाझर

RJ रमझाझर

Editor In Chief

Related post