कलेक्टर ने कोविड-19 के संबंध में स्वास्थ्य विभाग की ली बैठक शासन द्वारा कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए जारी गाइडलाइन के अनुरूप करें कार्य – कलेक्टर होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज द्वारा कोविड-19 प्रोटोकाल तोडऩे पर होगी कार्रवाई

 कलेक्टर ने कोविड-19 के संबंध में स्वास्थ्य विभाग की ली बैठक शासन द्वारा कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए जारी गाइडलाइन के अनुरूप करें कार्य – कलेक्टर होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज द्वारा कोविड-19 प्रोटोकाल तोडऩे पर होगी कार्रवाई

राजनांदगाव//  कलेक्टर  टोपेश्वर वर्मा ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में  स्वास्थ्य विभाग की बैठक लेकर कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए सभी प्रकार के आवश्यक उपाय एवं प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। कलेक्टर  वर्मा ने कहा कि शासन द्वारा समय-समय पर कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए दिशा-निर्देश जारी किया जा रहा है। इस निर्देश को निचले स्तर तक पहुंचाएं और इन्हीं के अनुरूप कार्य करें। जिससे कोरोना संक्रमण को नियंत्रित किया जा सके। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सतर्कता और जागरूकता जरूरी है। सभी लोग कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें, मास्क लगाएं और हाथ सेनेटाईज करते रहें। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को प्रचार-प्रसार और जागरूकता लाने के लिए आवश्यक उपाय करने कहा।


कलेक्टर वर्मा ने कहा कि कोरोना की जांच में पॉजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम 24 घंटे के भीतर मरीजों से संपर्क करें और उन्हें दवाईयां उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि कोरोना से सभी वर्ग के लोगों की मृत्यु हो रही है सभी को सतर्क रहना जरूरी है। मृत्यु दर का सबसे बड़ा कारण जानकारी छुपाना है। यदि किसी व्यक्ति को सर्दी, खांसी या बुखार है, वे जांच जरूर कराएं। जिससे समय पर इलाज किया जा सके। कलेक्टर  वर्मा ने कहा कि मरीज को होम आइसोलेशन में रहने के लिए अलग हवादार कमरे और शौचालय होना अनिवार्य है। होम आइसोलेशन में सिर्फ बिना लक्षण वाले मरीजों को रखा जाए। होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों द्वारा प्रोटोकाल का पालन करना अनिवार्य है। संक्रमित मरीज के घर से बाहर निकलने पर या प्रोटोकाल का पालन नहीं करने पर कार्रवाई की जाए।
कलेक्टर  वर्मा ने स्वास्थ्य विभाग के पास उपलब्ध एम्बुलेस, पीपीई किट, मास्क तथा अन्य सुविधाओं की जानकारी ली। स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही एंटीजन, ट्रूनॉट तथा आरटीपीसीआर जांच विश्वसनीय है। किसी एक में जांच कराने पर अन्य में जांच कराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 सेन्टरों में भोजन, पेयजल तथा साफ-सफाई की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी सहित स्वास्थ्य विभाग की टीम उपस्थित थी।

rj ramjhajhar

rj ramjhajhar

Related post