अशासकीय विद्यालयों की उपेक्षा एवं समस्याओं का निराकरण करने हेतु कलेक्टर को सौंपा गया विज्ञापन

 अशासकीय विद्यालयों की उपेक्षा एवं समस्याओं का निराकरण करने हेतु कलेक्टर को सौंपा गया विज्ञापन

हरजीत भास्कर मुंगेली जिला के सभी निजी विद्यालय अनेक मूलभूत समस्याओं से जूझ रहे हैं जोकि कलेक्टर साहब का ध्यान आकर्षित करने के लिए अशासकीय शिक्षक संघ मुंगेली के द्वारा 6 सूत्री मांगों को लेकर विज्ञापन सौंपा गया जैसे कि कक्षा पहली से दसवीं तक के विद्यार्थियों को शासन के द्वारा निशुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण शासकीय विद्यालयों में कर दिया गया है किंतु अशासकीय विद्यालयों के अभी तक प्राप्त नही हुइ है जिसे शीघ्र ही दिलवाने के लिए,
आरटीई के तहत 65% राशि अभी तक प्राप्त हैं उसे तुरंत दिलाने की कृपा करें ताकि कर्मचारियों को को पूछ मानदेय दिया जा सके,,
क्योंकि विद्यालय अभी बंद है इस कारण से बिजली बिल को माफ किया जावे,
बस लोन का ब्याज को माफ करके स्कूल खुलने के बाद बस किस्त जमा करने के लिए आदेशित करें,
स्काउट गाइड्स ,कीड़ा रेड, क्रॉस का शुल्क माफ किया जाए,
समस्त कर्मचारियों को कम से कम असंगठित कर्मकार मजदूर की समान मानदेय प्रशासन के द्वारा देकर उनकी समस्याओं को दूर किया जाए यह हमारी 6 सूत्री मांगे हैं यदि उक्त मांगों का समाधान 14 -09- 2020 तक नहीं किया जाएगा ,तो मजबूरन 15-09-2020 से विद्यालय में ताला लगाकर चाबी जिला शिक्षा अधिकारी महोदय को सौंपना पड़ेगा ,कहकर उसके पश्चात जिला कलेक्ट्रेट के सामने धरना प्रदर्शन करने की अशासकीय शिक्षण संघ मुंगेली के द्वारा कहा गया,और जिनमें उपस्थित रहे मुंगेली जिला के जिला -अध्यक्ष मनोहर यादव, -उपाध्यक्ष हजारी प्रसाद साहू, चित्रसेन वर्मा, गुलाब चंद अनंत,
सचिव रमेश कुल मित्र, कोषाध्यक्ष सुनील लहरे, -लोरमी ब्लाक अध्यक्ष त्रिलोक कोसले,
पथरिया ब्लॉक अध्यक्ष गोकर्ण जयसवाल ,
मुंगेली ब्लॉक अध्यक्ष नरपत कश्यप ,एवं समस्त टीचर गढ़ उपस्थित रहे

Manharan Banjare

Manharan Banjare

Reporter

Related post