अनाप-सनाप बिजली बिल से परेशान उपभोक्ता ने कलेक्टर आपिस के सामने सामुहिक आत्मदाह करने की कोशिश की

 अनाप-सनाप बिजली बिल से परेशान उपभोक्ता ने कलेक्टर आपिस के सामने सामुहिक आत्मदाह करने की कोशिश की

डी पी रात्रे बलौदाबाजार – छत्तीसगढ़ में बिजली विभाग की मनमानी इतनी बढ़ गई है कि आम आदमी को आत्महत्या करने हेतु दुष्प्रेरित किया जा रहा है। बिजली विभाग द्वारा अनाप-शनाप बिल भेज कर लोगों को आत्महत्या करने की ओर दुष्प्रेरित कर रहा है। इसी तारतम्य में पलारी ब्लाक के एक उपभोक्ता का पिछले महीने का बिल ₹23,350 आया था जिसकी लिखित शिकायत जेई पलारी और कलेक्टर जिला बलौदा बाजार को किए थे। साथ ही आवेदन में लिखा गया था कि 15 सितंबर 2020 तक उचित निवारण अर्थात सामान्य बिल (सौ, डेढ़ सौ, 200, 250 रुपए ) नहीं किए जाने पर 16 सितंबर 2020 को 4 बच्चे और पति- पत्नी सामूहिक आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। इस सामूहिक आत्महत्या की अनुमति कलेक्टर जिला बलौदा बाजार सुनील जैन से मांगी गई थी। जब 15 सितंबर 2020 तक कलेक्टर जिला बलौदा बाजार द्वारा उचित निवारण नहीं किया गया तब यह पीड़ित पक्षकार एक डिब्बे में मिट्टी तेल लाया हुआ था और पूरे परिवार सहित कलेक्टर परिसर के सामने सामूहिक आत्महत्या करने हेतु बैठे थे। इसकी जानकारी जब प्रशासन को हुआ तो पुलिस बल द्वारा मिट्टी तेल के डिब्बे को छीनने की कोशिश किया गया तब पीड़ित पक्ष ने अपने परिवार के सभी लोगों पर और स्वयं पर मिट्टी तेल डाल लिया।प्रशासन द्वारा पीड़ित उपभोक्ता का जान बचाना उनका कर्तव्य है जिसके लिए उनको धन्यवाद दिया जा सकता है, परंतु कलेक्टर जिला बलौदा बाजार द्वारा इस अनर्गल बिजली बिल भेजे जाने पर उचित कार्यवाही करने के बजाए पीड़ित उपभोक्ता पर ही पुलिस बल द्वारा दबाव बनाया जा रहा था।

पीड़ित उपभोक्ता के समस्या का निवारण करने के बजाय जिला प्रशासन उल्टा पीड़ित पक्ष पर ही दबाव बना रहे हैं जो एक शर्मनाक और निंदनीय कार्यवाही कहा जा सकता है।

Manharan Banjare

Manharan Banjare

Reporter

Related post